तरंग

तरंगः वेब पेज ऑडियो प्लेयर निर्माण अनुप्रयोग। विकास: बालेन्दु शर्मा दाधीच।

परिचय

तरंग सॉफ्टवेयर के विकास की ज़रूरत क्यों पड़ी
वेब पेज पर किसी ध्वनि फ़ाइल को चलाने के लिए एक माध्यम की ज़रूरत होती है। यह ब्राउज़र ऑडियो प्लग इन या वेब ऑडियो प्लेयर कहलाता है। सामान्य प्रयोक्ताओँ के लिए ऐसे प्लग इन का विकास और प्रयोग करना मुश्किल होता है। हिंदी सॉफ्टवेयरों के विकासकर्ता बालेन्दु दाधीच ने हिंदी के वेब विकासकर्ताओं, ब्लॉगरों आदि को ध्यान में रखते हुए एक ऐसा ऑडियो प्लग इन बनाने का निश्चय किया, जिसका वेबसाइटों में प्रयोग करना बहुत आसान हो। वही प्लग इन 'तरंग' नाम से आम प्रयोग के लिए निःशुल्क जारी किया गया है।

हालाँकि प्लग इन का निर्माण एक बात है और उसका वेब पेजों पर सफलतापूर्वक प्रयोग दूसरी बात। इसमें दूसरा काम आम वेब पेज निर्माताओं के द्वारा किया जाता है और आवश्यक कोड लिखने में गलतियों की आशंका रहती है। बालेन्दु दाधीच ने इस समस्या के समाधान के लिए एक विंडोज़ आधारित सॉफ्टवेयर का विकास करने की सोची जो वेब पेजों के लिए कोड लिखने का काम भी खुद ही पूरा कर दे। यानी यूज़र का काम सिर्फ अपने वेब पेज पर चलाई जाने वाली ऑडियो फ़ाइल के चुनाव तक सीमित रहे और बाकी सब काम सॉफ्टवेयर पूरा करे। तरंग का विंडोज अनुप्रयोग यही काम करता है। संक्षेप में कहा जाए तो तरंग के दो भाग हैं- पहला विंडोज़ आधारित सॉफ्टवेयर (जिसका नाम भी तरंग ही है) और दूसरा वेब पेज में embed किया जाने वाला ऑडियो प्लेयर प्लग इन (उसका नाम भी तरंग है)। अलबत्ता, यूज़र का संपर्क सिर्फ विंडोज़ सॉफ्टवेयर से होता है। उसके लिए प्लग इन तैयार करने से लेकर वेब पेज बनाने तक का सारा काम सॉफ्टवेयर खुद करता है।

'तरंग' एक निःशुल्क (फ्रीवेयर) सॉफ्टवेयर है। श्री दाधीच फ़्री सॉफ्टवेयर आंदोलन में यक़ीन रखते हैं और पहले भी
'माध्यम', 'स्पर्श' 'संशोधक' , हिंदीज़िप और झटफ़ोटो' जैसे निःशुल्क हिंदी सॉफ्टवेयर उपलब्ध करा चुके हैं।

तरंग में क्या खास है?
तरंग वेब पेजों पर प्रयुक्त ऑडियो प्लग इन का निर्माण करता है और ऑडियो फ़ाइल को चलाने के लिए ज़रूरी html कोड लिखता है। इसकी खास विशेषताएँ हैं-
- यह एक फ़्रीवेयर (निःशुल्क सॉफ्टवेयर है)
- इसके माध्यम से वेब पेज में उपलब्ध स्थान के लिहाज से कई आकार में प्लग-इन (ऑडियो प्लेयर) का निर्माण किया जा सकता है।
- यह एक बार में छह ऑडियो फ़ाइलों को संचालित करने के लिए वेब पेज बनाने में सक्षम है।

- इसके द्वारा बनाए गए वेब पेजों के कोड को आप अपने दूसरे वेब पेजों के कोड में भी कॉपी कर इस्तेमाल कर सकते हैं।

- यह फ्लैश आधारित प्लग इन का निर्माण करता है। इसलिए इसे संचालित करने के लिए प्रयोक्ता के कंप्यूटर में फ्लैश प्लेयर इन्स्टाल होना ज़रूरी है। आम तौर पर हर यूज़र के कंप्यूटर में यह प्लेयर मौजूद होता है।

- यूज़र को तकनीकी कोड में उलझने की जरूरत नहीं है। उसे सिर्फ़ दो बटन मात्र दबाने हैं। बाकी काम 'तरंग' खुद करता है।
- सॉफ्टवेयर का आकार बेहद छोटा (500 केबी से भीकम) है इसलिए यह आपके कंप्यूटर में अधिक स्थान नहीं घेरता।
- यह पूरी तरह सुरक्षित (वायरस, स्पाईवेयर आदि से) है।
- यह ऑडियो प्लेयर प्लग इन का निर्माण करने और वेब पेज तैयार करने के बाद खुद उसे चलाकर भी दिखाता है।
- यह ऑडियो प्लेयर फ़ाइल को चलाने के लिए इंतजार नहीं करता बल्कि बटन क्लिक किए जाने के बाद उसे तुरंत चलाना शुरू कर देता है।
क्या यह 'हिंदी' सॉफ्टवेयर है?
- तरंग का कार्य ऑडियो फ़ाइल से संबंधित है लेकिन इसका इंटरफ़ेस हिंदी में है। इसमें अंग्रेज़ी का प्रयोग नहीं किया गया है।
- यह हिंदी के उपयोक्ताओं को विशेष रूप से लक्ष्य बनाकर विकसित किया गया है। हालाँकि ऐसे अन्य भाषा-भाषी भी इसका प्रयोग कर सकते हैं जिन्हें हिंदी इंटरफ़ेस के प्रयोग में कोई दिक्कत नहीं है।

विकास

बालेन्दु शर्मा दाधीचः तरंग के डेवलपर

'तरंग' का विकास बालेन्दु शर्मा दाधीच ने किया है, जो हिंदी में कंप्यूटर और इंटरनेट आधारित कई सॉफ्टवेयरों, वेब सर्विसेज और वेबसाइटों के विकास के लिए जाने जाते हैं। सम्प्रति वे प्रभासाक्षी.कॉम नामक हिंदी समाचार-विचार पोर्टल के समूह संपादक हैं।

Balendu Sharma Dadhichवे आंकिक विभाजन के विरुद्ध सक्रिय विश्वव्यापी तकनीकी समुदाय के सदस्य के रूप में दो दिशाओं में सॉफ्टवेयर सोल्यूशन्स के विकास में जुटे हैं- 1. हिंदी से जुड़ी सुविधाएँ, और 2. आम लोगों के लिए निःशुल्क सॉफ्टवेयर सोल्यूशन्स (फ़्री एंड ओपन सोर्स)। 

सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के साथ-साथ श्री दाधीच राष्ट्रीय समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से तकनीकी विषयों पर लिखते हैं। एक वरिष्ठ ब्लॉगर के रूप में भी उनकी पहचान है।  हिंदी में यूनिकोड एनकोडिंग के विविध पहलुओं पर वे सन् 2000 से ही महत्वपूर्ण मौलिक लेखन करते रहे हैं। 

बालेन्दु शर्मा दाधीच की ओर से उपलब्ध कराए गए चुनिंदा हिंदी सॉफ्टवेयर और वेब परियोजनाएँ हैं-

माध्यमः हिंदी वर्ड प्रोसेसर
स्पर्शः हिंदी टाइपिंग ट्यूटर
संशोधकः वेब आधारित यूनिकोड विकृति संशोधक
सटीकः दोतरफा (यूनिकोड -
> टीटीएफ, टीटीएफ->यूनिकोड) हिंदी फॉन्ट कनवर्टर
छायाः हिंदी यूनिकोड आधारित इमेज प्रोसेसिंग सॉफ्टवेयर
हिंदीज़िपः हिंदी मुखावरण युक्त फ़ाइल संपीड़न युक्ति।
झटफोटोः हिंदी इंटरफ़ेस युक्त चित्र आकार परिवर्तक सॉफ्टवेयर।
तरंगः
वेब ऑडियो प्लेयर प्लग इन निर्माण सॉफ्टवेयर (हिंदी इंटरफ़ेस युक्त)।
प्रभासाक्षी.कॉमः
हिंदी का प्रमुख समाचार-विचार पोर्टल।
लोकलाइजेशनलैब्सः
हिंदी में यूनिकोड एनकोडिंग को बढ़ावा देने के लिए पोर्टल।

वेबसाइटः
http://www.balendu.com
फेसबुकः
http://facebook.com/balendudadhich
ईमेलः
balendu@gmail.com
 

प्रयोग

तरंग (बीटा) इन्स्टालेशन
तरंग इन्स्टालेशन से पहले आपके कंप्यूटर में माइक्रसॉफ्ट डॉट नेट फ्रेमवर्क 4 का मौज़ूद होना आवश्यक है। यदि कंप्यूटर विंडोज़ 7 या विंडोज़ 8 युक्त है तो संभवतः उसमें यह पहले  ही विद्यमान होगा।

इसका सेटअप डाउनलोड करने के बाद उसे डबल क्लिक करें। कुछ ही क्षण में तरंग इन्स्टाल हो जाएगा।
कैसे इस्तेमाल करें?
तरंग का प्रयोग अत्यंत सरल है। प्रयोग की विधि इस प्रकार है-

- सबसे पहले वह ऑडियो फ़ाइल तैयार रखें जिसका इस्तेमाल आप अपने वेब पेज पर करना चाहते हैं।
- अब तरंग सॉफ्टवेयर को खोलें।
- सॉफ्टवेयर खुलने पर दूसरा बटन, जिस पर
'ऑडियो फ़ाइल चुनें' लिखा है, दबाएँ।
- सॉफ्टवेयर द्वारा निर्मित किए जाने वाले ऑडियो प्लेयर प्लग इन की लंबाई 400 पिक्सल है। आप चाहें तो अपने वेब पेज पर उपलब्ध स्थान के लिहाज से इसे घटा-बढ़ा सकते हैं।
- यदि आप ऑडियो पलेयर की लंबाई बदलना चाहते हैं तो टेक्स्ट बॉक्स में (जहाँ 400 लिखा है) अपनी पसंद की लंबाई अंकों में डालें (जैसे 500)।
- बस, अब नीचे दिया बटन
'वेब कोड तैयार करें' दबाएँ।
- आपको एक संदेश दिखाया जाएगा, जो बताएगा कि इस सॉफ्टवेयर ने आपके कंप्यूटर के डेस्कटॉप पर एक फ़ोल्डर तैयार किया है।
- डेस्कटॉप पर तैयार किए गए फ़ोल्डर का नाम
'WebpageAudioCode' है और इसके भीतर सभी आवश्यक फाइलें, प्लग इन और ऑडियो फ़ाइल सहेज दिए गए हैं। आपको अपने वेब पेज पर इस्तेमाल करने के लिए इसके भीतर की सामग्री को ठीक इसी तरह वेबसाइट में अपलोड करना है। आप चाहें तो webpage.html नामक फ़ाइल के भीतर दिए html कोड को किसी अन्य वेब पेज में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन अन्य सभी फ़ोल्डरों को बदला नहीं जाना चाहिए। वे उसी नाम और स्थिति में रहने चाहिए। वेब पेज निर्माता जानते हैं कि यदि path बदलता है तो उसे अपने वेब पेज में किस तरह लिया जाना चाहिए।
- अंत में यह सॉफ्टवेयर आपके इंटरनेट ब्राउज़र में webpage.html नामक उस फ़ाइल को खोलकर दिखाएगा, जिसमें ऑडियो प्लेयर प्लग इन मौजूद है। आपने जिस फ़ाइल का चुनाव किया था, वह यहाँ दिखने वाले ऑडियो प्लेयर के प्ले बटन तो दबाकर चलाई जा सकेगी।
डिस्क्लेमर Disclaimer
तरंग एक अच्छे उद्देश्य के साथ, निःशुल्क उपलब्ध कराया गया है। इसे विकसित करते समय हर प्रकार की सावधानी बरती गई है ताकि वह आम उपयोक्ताओं के लिए एक उपयोगी सॉफ्टवेयर बने। किंतु यदि इसके प्रयोग के दौरान किसी तकनीकी कारण, कंप्यूटर संबंधी समस्या, उपयोक्ता की गलती, कोड संबंधी बग़, या किसी भी अन्य कारण या संयोग से उपयोक्ता के डेटा, कंप्यूटर आदि को कोई हानि पहुँचती है तो इसके लिए डेवलपर उत्तरदायी नहीं है। डेवलपर किसी भी प्रकार के नुकसान की भरपाई का पात्र नहीं होगा। यदि आपको तरंग के प्रयोग के संबंध में कोई भी शंका हो तो कृपया इसका इस्तेमाल न करें।

Tarang has been developed for a good cause and has been made available to common people for free. All necessary precautions have been taken during its development so that it can become a useful tool for computer users. However the developer takes no responsibility for any loss of data or any damage inadvertently caused to his computer or any other physical or logical property. The developer will not be liable for any compensation or penalty in case of any loss caused due to Tarang's use or any other associate reason whatsoever. If a user has any apprehensions regarding its use, he/she is advised to avoid using the software.