रचनाः समाचार4मीडिया
तिथिः 10 दिसंबर 2015

लब्बोलुआबः

बालेन्दु शर्मा दाधीच ने दस दिसंबर को हिंदी समाचार पोर्टल प्रभासाक्षी.कॉम के समूह संपादक पद से इस्तीफा दे दिया।

प्रभासाक्षी के समूह संपादक पद से बालेन्दु दाधीच का इस्तीफा

- समाचार4मीडिया

नई दिल्ली । वरिष्ठ पत्रकार और तकनीकविद बालेन्दु शर्मा दाधीच ने दस दिसंबर को हिंदी समाचार पोर्टल प्रभासाक्षी.कॉम के समूह संपादक पद से इस्तीफा दे दिया। हिंदी में न्यू मीडिया को पहचान दिलाने वाले चुनिंदा व्यक्तित्वों में से एक, श्री दाधीच एक दशक से अधिक समय से 'प्रभासाक्षी' के साथ जुड़े थे। नौ दिसंबर को उन्हें भावभीनी विदायी दी गई। दस दिसंबर को औपचारिक विदायी पार्टी हुई।

सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में हिंदी भाषा के विकास और हिंदी वेब मीडिया के विकास में बालेन्दु दाधीच का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। खासकर हिंदी भाषा में तकनीकी सोच को आगे बढ़ाने तथा सूचना तकनीक के विविध पहलुओं को रहस्यजाल से मुक्त करने में उन्होंने बड़ा काम किया है। उन्हें विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में हिंदी की सेवा के लिए सन 2013 के आत्माराम पुरस्कार के लिए भी चुना गया है, जो सात जनवरी को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के हाथों प्रदान किया जाएगा।

एक दर्जन से अधिक पुरस्कारों से सम्मानित बालेन्दु दाधीच की गणना ऐसे चुनिंदा व्यक्तियों में होती है जो सूचना प्रौद्योगिकी, मीडिया और हिंदी भाषा में समान विशेषज्ञता रखते हैं। प्रभासाक्षी के समूह संपादक के साथ-साथ वे द्वारिकेश औद्योगिक समूह में मुख्य महाप्रबंधक (सूचना प्रौद्योगिकी) का दायित्व भी निभा रहे थे।

बालेन्दु दाधीच किस संस्थान में जा रहे हैं, यह अभी स्पष्ट नहीं है। इस बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि उनके पास कुछ अच्छे प्रस्ताव हैं और वे बहुत जल्द अपनी भावी भूमिका के बारे में निर्णय करेंगे। संकेत हैं कि उन्हें उत्तर प्रदेश के एक प्रमुख हिंदी अखबार समूह और एक बड़ी बहुराष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी से प्रस्ताव मिले हैं।

श्री दाधीच ने प्रभासाक्षी से जुड़े पत्रकारों, लेखकों, स्तंभकारों तथा अन्य रचनाकारों को पत्र भेजकर उनके साथ अपने लंबे, रचनात्मक संबंधों के लिए आभार जताया है। उन्होंने लिखा है- " प्रभासाक्षी से जुड़े लेखक, स्तंभकार तथा अन्य सेवा प्रदाताओं के लिए मेरे मन में गहरे प्रेम और सम्मान का भाव है। आपके कार्य और सहयोग ने इस पोर्टल की सफलता में बड़ी भूमिका निभाई है। आप सबकी बदौलत मैं सदा आत्मविश्वास से भरा रहा। कितना कुछ मैंने आप सबके साथ सीखा, किया और जिया। भले ही आप भौगोलिक रूप से मुझसे दूर हों, मेरे मन के बहुत करीब हैं।"

बालेन्दु दाधीच ने अपना कॅरियर राजस्थान पत्रिका, जयपुर, से शुरू किया था। उसके बाद वे जनसत्ता में आ गए जहाँ वे पत्रकारिता के पुरोधा स्व. प्रभाष जोशी की टीम के सदस्य रहे। उन्होंने जिन अन्य संस्थानों में काम किया उनमें हिंदुस्तान टाइम्स समूह की टेलीविजन परियोजना 'होम टीवी' और सहारा टीवी प्रमुख हैं।

इन दिनों
पिछले आलेखः
फ़ेसबुक पर लाइक करें